Click here

सोवेर्जन गोल्ड बॉन्ड स्कीम

Home  >>  सोवेर्जन गोल्ड बॉन्ड स्कीम

एस जी बी (SGB) स्कीम क्या है?

भारतीय सरकार द्वारा सॉवेरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम जल्दी ही बाज़ार में उपलब्ध करवाई जाएगी। चूंकि निवेशकों को गोल्ड प्राइस से लिंक्ड रिटर्न्स मिलेंगे, इस स्कीम से फ़िज़िकल गोल्ड जैसे ही फ़ायदे मिलने की अपेक्षा की जा रही है। इनका उपयोग क़र्ज़ लेने के लिये कोलैटरल की तरह किया जा सकता है और बेचा या फिर स्टॉक एक्स्चेन्ज में ट्रेड किया जा सकता है।

फायदे

  • सॉवेरेन गोल्ड बॉन्ड डीमैट और पेपर प्रकार, दोनो में उपलब्ध होते हैं।
  • बॉन्ड की अवधि न्यूनतम 8 वर्षों की होती है, 5वें, 6वें और 7वें वर्षों के विकल्प के साथ।
  • इनमें निवेशित पूंजी और प्राप्त ब्याज, दोनो पर सॉवेरेन गारंटी होगी।
  • बॉन्ड्स का उपयोग क़र्ज़ के लिये कोलैटरल के रुप में किया जा सकता है।
  • बॉन्ड्स को एक्स्चेन्जों में ट्रेड किया जा सकता है ताकि इन्वेस्टर्स समय से पहले भी अगर चाहें तो एग्ज़िट कर सकते हैं।
  • सॉवेरेन गोल्ड बॉन्ड्स में कैपिटल गेन टैक्स व्यवहार, एकल निवेशक के लिए फ़िज़िकल गोल्ड जैसा ही होगा। रेवेन्यू डिपार्टमेन्ट ने कहा है कि वे इन्डेक्ज़ेशन बेनेफिट को मानेंगे यदि बॉन्ड, मैच्योरिटी से पहले ट्रान्सफ़र किया जाता है और रिडम्पशन के समय कैपिटल गेन टैक्स पर छूट की शर्त को पूरा करता है।

कैसे ख़रीदा जाए?

सॉवेरेन गोल्ड बॉन्ड्स रुपयों के भुगतान करने पर जारी किए जाएंगे और गोल्ड के विभिन्न ग्रामों में मूल्यांकित होंगे। बॉन्ड में न्यूनतम निवेश 2 ग्राम से किया जाएगा। ये बॉन्ड्स भारतीय नागरिकों या संस्थाओं द्वारा ख़रीदे जा सकते हैं, जिन्हे 500 ग्राम पर तय (कैप) किया जाता है।

कहाँ से ख़रीदें?

निवेशक संबद्ध कमर्शियल बैंकों और संबद्ध पोस्ट ऑफिसों द्वारा बॉन्ड्स के लिये आवेदन कर सकते हैं।
एन बी एफ सी (NBFC), नैशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NAC) के एजेन्ट और अन्य व्यक्ति, एजेन्ट के रुप में कार्य कर सकते हैं। उन्हें आवेदन पत्र प्राप्त करने और बैंक तथा पोस्ट ऑफ़िसों में जमा करने हेतु अधिकृत किया गया है।

ये बॉन्ड्स कौन जारी करता है?

इन बॉन्ड्स को भारतीय सरकार की ओर से रिज़र्व बैंक ऑफ इन्डिया द्वारा जारी किया जाता है। इन बॉन्ड्स को बैंक और संबद्ध पोस्ट ऑफ़िस द्वारा वितरित किया जाता है। इसके कारण बॉन्ड्स को सब्स्क्राईब करना सरल हो जाता है। रिडम्पशन के समय, निर्धारित किए अनुसार, प्रचलित गोल्ड प्राइस को रेफरंस रेट के रुप में लिया जा सकता है और रूपए के समतुल्य रक़म इश्यू और रिडम्पशन पर आर बी आई (RBI) रेफरंस रेट पर परिवर्तित (कनवर्टेड) की जा सकतीहै।

सॉवरेन गोल्ड बॉण्ड स्कीम 2015 – सामान्यतःपूछे जाने वाले प्रश्न
(फ्रीक्वेन्टली आस्क्ड क्वेश्चन्स)
1. सॉवरेन गोल्ड बॉण्ड (SGB) क्या है? जारीकर्ता कौन है?
SGBs ग्राम्स ऑफ़ गोल्ड में मूल्यांकित सरकारी प्रतिभूतियाँ हैं। ये फिज़िकल गोल्ड अपने पास रखने के विकल्प हैं। निवेशकों को नक़दी में निर्गम मूल्य का भुगतान करना पड़ता है और बॉण्ड परिपक्वता पर नक़दी में भुनाए जाएँगे। बॉण्ड भारत सरकार की ओर से भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी किए जाते हैं।
2. मुझे फिज़िकल सोने के बजाय SGB क्यूँ ख़रीदना चाहिए? क्या लाभ हैं?
जिस गोल्ड की मात्रा के लिए निवेशक भुगतान करते हैं, वह सुरक्षित है, क्योंकि रिडेम्पशन /
पूर्व परिपक्व रिडेम्पशन के समय उन्हें प्रचलित बाज़ार मूल्य प्राप्त होता है. SGB फिज़िकल रूप में गोल्ड रखने की बजाय एक बेहतर विकल्प प्रस्तुत करता है। स्टोरेज करने के जोख़िम और लागत ख़त्म हो जाते हैं। निवेशकों को परिपक्वता के समय गोल्ड के बाज़ार मूल्य और आवधिक ब्याज एश्योर्ड किया जाता है। SGB गोल्ड रूप में ज्वेलरी के मामले में मेकिंग चार्जों और प्योरिटी जैसे मुद्दों से मुक्त है। बॉण्ड्स रिज़र्व बैंक के बही-खातों में या डीमैट रूप में रखे जाते हैं, जिससे स्क्रिप्ट आदि के नुक़सान का जोख़िम ख़त्म हो जाता है।
3. SGB में निवेश करने में क्या कोई जोख़िम भी हैं?
यदि गोल्ड के बाज़ार मूल्य में गिरावट आती है, तो पूंजी नुक़सान का ख़तरा हो सकता है। हालांकि, निवेशक गोल्ड की उन यूनिटों के संबंध में कुछ नहीं खोता जिनके लिए उसने भुगतान किया है।
4. SGBs में निवेश करने के लिए कौन पात्र है?
विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम 1999 के तहत परिभाषित भारत में निवसित व्यक्ति, एसजीबी में निवेश करने के लिए पात्रता रखते हैं। पात्र निवेशकों में व्यक्ति, HUF, ट्रस्ट, विश्वविद्यालयों, धर्मार्थ संस्थाएँ, आदि शामिल हैं।
5. जॉइंट होल्डिंग की अनुमति दी जाती है या नहीं?
हाँ, जॉइंट होल्डिंग की अनुमति दी जाती है।
6. क्या कोई अल्पवयस्क (माइनर) एसजीबी में निवेश कर सकता है?
हाँ। अल्पवयस्क (माइनर) की ओर से उसके / उसकी संरक्षक द्वारा आवेदन किया जाएगा।
7. निवेशक आवेदन फार्म कहाँ से प्राप्त कर सकते हैं?
आवेदन फार्म जारी करने वाले बैंकों / नामित डाकघरों / एजेंटों द्वारा प्रदान किया जाएगा। इसे रिजर्व बैंक की वेबसाइट से भी डाउनलोड किया जा सकता है। बैंक ऑनलाइन आवेदन की सुविधा प्रदान कर सकते हैं।
8. नो योर कस्टमर (KYC) मानदंड क्या हैं?
नो योर कस्टमर (KYC) मानदंड वैसे ही होंगे जैसे गोल्ड के फिज़िकल रूप की ख़रीदी के लिए होते हैं। पहचान के लिए दस्तावेज़ों जैसे, आधार कार्ड / PAN या TAN / पासपोर्ट / वोटर आईडी कार्ड के रूप में की ज़रुरत होगी। जारी करने वाले बैंकों / डाकघरों / एजेंटों द्वारा KYC किया जाएगा।.
9. निवेश के लिए न्यूनतम और अधिकतम सीमा क्या है?
बॉण्ड्स एक ग्राम गोल्ड के मूल्यवर्ग में और उसके गुणकों में जारी किए जाते हैं। बॉन्ड में न्यूनतम निवेश दो ग्राम होगा, चालू वित्त वर्ष में प्रति वर्ष प्रति व्यक्ति 500 ग्राम (अप्रैल-मार्च) की अधिकतम ख़रीद सीमा के साथ। संयुक्त होल्डिंग के मामले में, यह सीमा पहले आवेदक पर लागू होती है।
10. क्या हम अपने परिवार के सदस्यों में से प्रत्येक के नाम पर 500 ग्राम खरीद सकते हैं?
हाँ, परिवार के प्रत्येक सदस्य बॉन्ड होल्ड कर सकते हैं यदि प्रश्न संख्या 4 में वे परिभाषित पात्रता मानदंडों को पूरा करते हैं तो।
11. क्या हम हर साल 500 ग्राम मूल्य के SGB ख़रीद सकते हैं?
हाँ। लोग हर साल 500 ग्राम मूल्य का गोल्ड ख़रीद सकते हैं, क्योंकि वित्तीय वर्ष (अप्रैल-मार्च) के आधार पर सीलिंग तय की गयी होगी।
12. Is the limit of 500 grams of gold applicable if I buy on the Exchanges?
क्या 500 ग्राम गोल्ड की सीमा लागू होती है अगर एक्सचेंजों से ख़रीदी करें तो?
13. ब्याज की दर क्या होती है और ब्याज भुगतान कैसे किया जाएगा?
प्रारंभिक निवेश की राशि पर प्रतिवर्ष 2.75 प्रतिशत (फिक्स्ड दर) के अनुसार, बॉन्ड पर ब्याज का भार होता है। ब्याज निवेशक के बैंक खाते में अर्द्ध सालाना जमा किया जाएगा और अंतिम ब्याज मूलधन के साथ परिपक्वता पर देय होगा।
14. SGB की बिक्री करने वाली अधिकृत एजेंसियाँ कौन सी हैं?
बॉण्ड अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों और या नामित डाकघरों के माध्यम से बेचे जाते हैं, या तो सीधे या उनके एजेंटों जैसे कि गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (NBFC), NSC एजेंटों, आदि द्वारा।
15. क्या मेरे लिए अपने ही बैंक के माध्यम से आवेदन करना ज़रूरी है?
यह आवश्यक नहीं है कि ग्राहक उसी बैंक के माध्यम से आवेदन करे जहाँ उसका खाता है। ग्राहक दूसरे बैंक या डाकघर के माध्यम से भी आवेदन कर सकते हैं।


16. यदि मैं आवेदन करूँ, तो मुझे निश्चित आवंटन मिलेगा?
यदि ग्राहक पात्रता मानदंडों को पूरा करता है, एक वैध पहचान दस्तावेज प्रस्तुत करता है और समय पर आवेदन शुल्क जमा करता है, तो उसे आवंटन निश्चित रूप से मिलेगा।
17. ग्राहकों को होल्डिंग प्रमाण पत्र कब जारी किया जाएगा?
ग्राहकों को SGB जारी होने की तारीख़ पर होल्डिंग प्रमाण-पत्र जारी किया जाएगा। होल्डिंग प्रमाण-पत्र जारी करने वाले बैंकों / डाकघरों / एजेंटों से प्राप्त किया जा सकता है या अगर आवेदन पत्र पर ईमेल पता दिया हो तो ईमेल के ज़रिये भी भारतीय रिज़र्व बैंक से सीधे मंगवाया जा सकता है।
18. क्या ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है?
हाँ। ग्राहक सूचीबद्ध अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों की वेबसाइट के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।
19. बॉण्ड की बिक्री किस क़ीमत पर की जाती है?
बॉण्ड की क़ीमत पिछले हफ़्ते (सोमवार-शुक्रवार) के भारत बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन लिमिटेड (IBJA) द्वारा प्रकाशित 999 प्योरिटी वाले गोल्ड के लिए सामान्य औसतन क़ीमत के आधार पर भारतीय रूपए में निर्धारित की जाएगी। निर्गम मूल्य (इश्यु प्राइस) भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा प्रचारित किया जाएगा।
20. क्या भारतीय रिजर्व बैंक हर दिन के लिए गोल्ड की लागू दर प्रकाशित करेंगे?
प्रासंगिक किश्त (त्रैंचे) के लिए गोल्ड की क़ीमत इश्यु आने के दो दिन पहले भारतीय रिज़र्व बैंक की वेबसाइट पर प्रकाशित की जाएगी।
21. रिडेम्पशन पर मुझे क्या मिलेगा?
परिपक्वता पर, रिडेम्पशन आय मूल रूप से भारतीय रुपए में निवेशित गोल्ड के ग्राम्स के मौजूदा बाज़ार मूल्य के समकक्ष होगी। रिडेम्पशन क़ीमत पिछले हफ़्ते (सोमवार-शुक्रवार) के भारत बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन लिमिटेड (IBJA) द्वारा प्रकाशित 999 प्योरिटी वाले गोल्ड की क्लोज़िंग क़ीमत की सामान्य औसतन क़ीमत के आधार पर भारतीय रूपए में निर्धारित की जाएगी।
22. रिडेम्पशन की राशि मुझे कैसे प्राप्त होगी?
ब्याज़ और रिडेम्पशन आय, दोनों, बॉण्ड की ख़रीदी के समय ग्राहक द्वारा दिए गए बैंक खाते में जमा किए जाएंगे।
23. रिडेम्पशन के दौरान शामिल प्रक्रियाएँ कौन सी हैं?
• निवेशक को बॉण्ड की आगामी परिपक्वता के बारे में परिपक्वता से एक महीने पहले सलाह दी जाएगी।
• परिपक्वता की तारीख़ पर, परिपक्वता आय रिकॉर्ड के विवरण अनुसार बैंक खाते में जमा की जाएगी।
• यदि किसी भी जानकारी में परिवर्तन हो, जैसे कि अकाउंट नंबर, ईमेल आईडी, तो निवेशक को तुरंत बैंक / पीओ को सूचित करना चाहिए।
24. क्या बॉण्ड को किसी भी समय भुनाया (एनकैश किया) जा सकता है? क्या समय से पहले रिडेम्पशन की अनुमति है?
हालांकि बॉण्ड की अवधि 8 साल है, समय से पहले बॉण्ड के एन्कैशमिनट /रिडेम्पशन की अनुमति कूपन भुगतान विवरण पर दी हुई जारी करने की तारीख़ से 5 साल बाद दी जाती है। बॉण्ड एक्सचेंजों पर व्यापार कर सकेगा, यदि डीमैट के रूप में रखा गया है। यह किसी भी अन्य पात्र निवेशक को भी ट्रान्सफर किया जा सकता है।
25. यदि मैं अपने निवेश से निकलना चाहूँ, तो मुझे क्या करना होगा?
समय से पहले रिडेम्पशन के मामले में, निवेशक कूपन भुगतान की तारीख़ से तीस दिन पहले संबंधित बैंक / पोस्ट ऑफिस / एजेंट से संपर्क कर सकते हैं। समय से पहले रिडेम्पशन की रिक्वेस्ट पर केवल तब ही विचार किया जाएगा यदि निवेशक सम्बंधित बैंक/पोस्ट ऑफिस से कूपन भुगतान की तारीख़ से कम से कम एक दिन पहले संपर्क करे। आय बॉण्ड की ख़रीदी के समय ग्राहक द्वारा दिए गए बैंक खाते में जमा की जाएगी।
26. क्या किसी रिश्तेदार या दोस्त को किसी अवसर पर बॉण्ड उपहार में दिया जा सकता है?
बॉण्ड रिश्तेदार / मित्र / किसी को भी दिया जा सकता है जो पात्रता की शर्तों (प्र. सं .4 में दिए अनुसार) को पूरा करते हों। बॉण्ड, सरकारी प्रतिभूति अधिनियम (गवर्नमेंट सिक्योरिटीज एक्ट) 2006 और सरकारी प्रतिभूति विनियम (गवर्नमेंट सिक्योरिटीज रेग्युलेशन्स) 2007 के प्रावधानों के अनुसार परिपक्वता से पहले एजेंटों के पास उपलब्ध एक ट्रांसफर के दस्तावेज़ के एग्ज़ीक्युशन द्वारा ट्रांसफ़र किए जाने के योग्य होंगे।
27. क्या ऋण के लिए ज़मानत के रूप में इन प्रतिभूतियों का उपयोग किया जा सकता है?
हाँ, ये प्रतिभूतियाँ बैंकों, वित्तीय संस्थानों और ग़ैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (NBFC) से ऋण के लिए ज़मानत के रूप में इस्तेमाल किए जाने की योग्य हैं। ऋण और मूल्य का अनुपात भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा समय-समय पर साधारण गोल्ड लोन के लिए लागू अनुसार ही होगा।
28. टैक्स इम्प्लिकेशन्स (कर की जटिलताएं) क्या हैं, i) ब्याज और ii) पूंजी लाभ पर?
बॉण्ड पर ब्याज आयकर अधिनियम, 1961 (1961 का 43) के प्रावधानों के अनुसार कर योग्य होगा। पूंजीगत लाभ कर फिज़िकल गोल्ड की तरह ही माना जाएगा।
29. स्रोत पर टैक्स कटौती (TDS) क्या बॉण्ड पर लागू होती है?
TDS बॉण्ड पर लागू नहीं है। हालांकि, कर-क़ानूनों का पालन करना बॉण्ड धारक की ज़िम्मेदारी है।
30. बॉण्ड जारी करने के बाद निवेशकों के लिए अन्य ग्राहक सेवाएं कौन प्रदान करेगा?
जारी करने वाले बैंकों / डाकघरों / एजेंटों, जिनके द्वारा ये प्रतिभूतियाँ ख़रीदी गईं, अन्य ग्राहक सेवाएं जैसे पते में परिवर्तन, समय से पहले रिडेम्पशन, नामांकन, आदि प्रदान करेंगे।
31. सॉवरेन गोल्ड बॉण्ड में निवेश के लिए भुगतान विकल्प क्या हैं?
भुगतान नकद / चेक / डिमांड ड्राफ्ट / इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर के माध्यम से किया जा सकता है।
32. नामांकन सुविधा इन निवेशों के लिए उपलब्ध है या नहीं?
हाँ, सरकारी प्रतिभूति अधिनियम 2006 और सरकारी प्रतिभूति विनियमावली 2007के प्रावधानों के अनुसार नामांकन सुविधा उपलब्ध है। नामांकन फार्म आवेदन पत्र के साथ उपलब्ध है।
33. 500 ग्राम की अधिकतम सीमा संयुक्त होल्डिंग में क्या लागू है?
अधिकतम सीमा पहले आवेदक के लिए, विशिष्ट स्पेसिफिकेशन वाले किसी संयुक्त होल्डिंग के मामले में लागू होगी।
34. क्या संस्थान जैसे कि बैंकों को सॉवरेन गोल्ड बॉण्ड में निवेश करने की अनुमति दी जाती है?
सॉवरेन गोल्ड बॉण्ड में बैंकों द्वारा निवेश पर कोई रोक नहीं है। ये SLR के लिए योग्यता प्राप्त करेंगे।
35. क्या बॉण्ड डीमैट के रूप में मिल सकता है?
बॉण्ड, डीमैट खाते में रखे जा सकते हैं।
36. क्या इन बॉण्डों से व्यापार किया जा सकता है?
बॉण्ड, भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा अधिसूचित होने वाली तारीख़ से शेयर बाज़ारों में व्यापार किए जाने योग्य हैं। सरकारी प्रतिभूति अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार बॉण्ड की बिक्री और ट्रांसफर भी किया जा सकता है।
37. पुट विकल्प आज़माने के वक़्त क्या इन बॉण्डों का आंशिक पुनर्भुगतान मिल सकता है?
हाँ, आंशिक होल्डिंग्स एक ग्राम के गुणकों में भुनाई जा सकती है।